काम को दबाओ नहीं, इसे समझो

kaam ek shakti hai

काम ऊर्जा अगर नीचे को बह गयी तो सेक्सुअल रिलीस होगा और यही काम ऊर्जा को अगर ध्यान के द्वारा बदल दिया तो वो तुम्हारे ध्यान को गहरा कर देगी। यह एक शक्ति है। इसे इस्तेमाल में कैसे लाया जाए; यह आप पर निर्भर करता है । जो लोग अपनी इस काम ऊर्जा का सदुपयोग करना नहीं जानते, और उससे लड़ते रहते हैं, वे बड़े ग़मगीन और दुखी आत्माएँ रहती हैं। इसे बदलना सीखो। पर इसे बुरा मत कहो। इसको दबाओ नहीं, इसे समझो। इसी काम ऊर्जा से एक बच्चे का जन्म हो जाता है। ये क्या कोई छोटी बात है? अगर आपको लगता है कि आपको सिर्फ़ इससे बाहर आने की ज़रूरत है, तो उसके अनुभव में जाइए। और उस अनुभव के लाइसेन्स का नाम ही तो शादी है। पर फिर ये भी सच है कि सिर्फ़ काम ऊर्जा को समझने या काम ऊर्जा कैसे कार्य करती है, इतना भर ज्ञान लेने के लिए, आप विवाह करो, अनुभव तो मिल जाएगा, पर साथ में फिर बच्चे भी मिलेंगे, ज़िम्मेदारी भी मिलेगी, और काम भी मिलेगा। फिर यह काम, ऐसे काम को जन्म देगा कि ज़िंदगी भर चक्कर में फँस कर रह जाओगे । अगर मैं वैज्ञानिक ढंग से कहूँ कि चौदह साल की आयु में किसी के भीतर सेक्स की इच्छा जगती है, तो जो ग्रंथियों का सिस्टम है, उस लिहाज से 45 साल की उम्र तक आते आते ये ख़त्म भी हो जाना चाहिए। पर क्या 45 साल से ऊपर के जितने स्त्री और पुरुष हैं, उनके अंदर काम इच्छा ख़त्म हो गयी? नहीं हुई। इसका मतलब सिस्टम में कुछ तो गड़बड़ है। इसका कारण शारीरिक हो सकता है और इससे भी ज़्यादा आपके दिमाग़ की गड़बड़ है। इसका अर्थ कि दिमाग़ ये अंतर नहीं देख पा रहा है कि क्षणिक सुख में और सनातन सुख में क्या अंतर है। उम्र से बड़े होते जाते है, पर अकल वही की वही रह जाती है। इसीलिए दुनिया में सबसे पुराना व्यवसाय कोई है तो वो वैश्यागिरी है। सेक्स का धंधा सबसे पुराना धंधा है। और सबसे ज़्यादा चलने वाला भी यही धंधा है। क्योंकि ये मनुष्य की एक ऐसी ज़रूरत है जिसको इंसान छोड़ नहीं पाता है, दबा नहीं पाता है। उसको उसमें जाना ही पड़ता है। जो बिना सोचे समझे इसमें जा रहे हैं, उनमें और पशु में कोई अंतर नहीं है।
पर जो अपनी इस ऊर्जा को समझे, और इस ऊर्जा को परिवर्तित करना सीख ले, तो अपने जीवन को बदलने के लिए इससे बढ़िया और कोई मार्ग नहीं हो सकता है। तो आपको देखना होगा कि आप किस तल पर हैं। देह के तल पर हैं? अकल कम है, समझ अभी पूरी नहीं आई है, तो फिर आप सिर्फ़ अपने आप को नियंत्रित मत करिए, ज़बरदस्ती दबाते मत रहिए। विवाह करिए, आराम से विवाहित जीवन बिताइए, और इस काम सुख को भोगते हुए, शायद समझ आ पाए कि इसमें से निकलेगा क्या। बातों से काम चलने वाला नहीं है। कुछ करने की ज़रूरत है। आप छिपा नहीं सकते हो। उसको समझने की ज़रूरत है। और जो लोग योगासन करते और प्राणायाम करते हैं उनके लिए इस काम ऊर्जा को परिवर्तित करना और भी आसान हो जाता है। यह केवल कथा, ज्ञान सुनने से नहीं हो जाता। अपने शरीर को, दिमाग़ को, सिस्टम को, ठीक करने की ज़रूरत है। अगर यह आप ईमानदारी से नहीं कर रहे हैं, और आप समझ नहीं रहे हैं कि यह क्या है, तो यही होगा की आपके अंदर उथल पुथल चल रही है बहुत ज़ोर से, काम छलांगें मार रहा है और तुम उसे दबाए जा रहे हो पूरी ताक़त से। इसीलिए तो दुनिया में ज़्यादातर लोग कम अकल के मिलते हैं, क्योंकि उनकी सारी अकल तो काम से लड़ने में चली गयी या तो दबाने में या उसके भोगने में। पर समझते नहीं। समझने से एक सौन्दर्य, हलकापन आता है। इसीलिए ज़रूरत को समझिए। जो लोग मानसिक तौर पर पूरी तरह संतुष्ट हो जाते हैं, ऐसे पति पत्नी का प्रेम शरीर से उठकर मन के तल पर चला जाएगा और उनके साथ रहने पर भी दैहिक आकर्षण ख़त्म हो जाता है।

गाँधीजी अपनी पत्नी कस्तूरबा को ‘बा’ कहते थे। ‘बा’ गुजराती में माँ को कहते हैं। उनका नाम कस्तूर था, गाँधी ने साथ में ‘बा’ जोड़ दिया। क्योंकि एक समय तक गाँधी बहुत कामुक व्यक्ति था। जिस रात उसके पिता की मृत्यु हो रही थी, उस समय पर भी गाँधी अपनी पत्नी के साथ अपने शयनकक्ष में थे और उसी समय उनके पिता के प्राण छूट गये। उनके दिल को बहुत धक्का लगा कि मैं पिता को रोगी देख कर भी अपने मन के इस वेग में बह गया। उस दिन से उन्होने अपनी काम-ऊर्जा पर काम करना शुरु कर दिया। फिर एक दिन वह भी आ गया, जब उनकी पत्नी उनके पास होते हुए भी उसे पत्नी नहीं, उसमें माँ का स्वरूप देखने लग गये और कस्तूरबा बुलाने लग गये। पहली बार जब उन्होने उसे ‘बा’ बुलाया तो वह हैरान होकर कहती कि ‘ यह आप क्या बोल रहे हो, मैं तो आपकी पत्नी हूँ, माँ नहीं।’ गाँधीजी कहते हैं कि आज से तू मेरी माता ही है। और आज के बाद से तेरे मेरे बीच में पति पत्नी जैसा कोई भी व्यवहार नहीं होगा। अब मैं उस चीज़ से बाहर आ चुका हूँ।’ गाँधी जी निरंतर अपने आप को चैलेंज करते रहे, परखते रहे, देखते रहे। बस, अंतर इतना है कि उनकी सोच में यह बात बहुत तीव्र थी कि ‘काम एक बुरी चीज़ है, इसको हटाना है।’ इसलिए तो गाँधी एक राजनेता थे, ऋषि नहीं। पर जो ऋषि थे उन्होने काम को बुरा नहीं समझा। ग़लत नहीं कहा। काम को भी राम तक पहुँचने की सीढ़ी कहा। जब तक तुम इससे निकलोगे नहीं, तब तक तुम राम से कैसे जुडोगे? कथा, ज्ञान जो तुम बैठ कर सुनते रहते हो, इससे तुम्हारी ज़िंदगी नहीं बदल जाएगी। अगर तुम्हें ऐसा लगता है तो तुम ग़लतफहमी में हो। जो समझदार और विवेकी हैं, जिसका विवेक इतना ऊँचा उठ जाए, उसको फिर अनुभव की ज़रूरत नहीं रह जाती, कि वह सेक्स से गुज़रेगा, तो उसको पता चलेगा कि इससे बाहर कैसे आएँ। अगर उसका बौद्धिक स्तर, ज्ञान का स्तर उँचा है, तो वो उसको अपनी अकल से, बिना अनुभव में गये ही समझ जाता है। पर इस स्तर के लोग बहुत कम होते हैं। इसीलिए गुरु नानक, याज्ञवल्क्य जैसे ऋषियों ने कहा कि आपको गृहस्थ आश्रम में जाना ही चहिये। जाए बगैर कैसे समझोगे कि यह क्या है? केवल बातों से? बुद्ध भी सन्यासी होने से पहले गृहस्थ थे। उन्होने गृहस्थी को नकारा नहीं। उसे स्वीकार किया। पर उन्होंने गृहस्थ जीवन को भी अपने अध्यात्मिक जीवन की एक सीढ़ी बना दिया। इसीलिए काम को आप एक सीढ़ी बनाइए। काम ऊर्जा को आप अपना दुश्मन मत बनाइए। और जो तुम कर रहे हो, वह दुश्मनी ही कर रहे हो, लड़ रहे हो, लड़ रहे हो। अगर काम गोबर है तो उसको विवेक, समझ और ध्यान के साथ बदलिए, तो यही खाद बन जाएगी और जीवन में फूल खिला देगी। लड़ो मत, जागो, समझो।
द्वारा,
गुरु माँ आनंद मूर्ति

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You may use these HTML tags and attributes: <a href="" title=""> <abbr title=""> <acronym title=""> <b> <blockquote cite=""> <cite> <code> <del datetime=""> <em> <i> <q cite=""> <strike> <strong>