SatsangLive

The Spiritual Touch

महाआरती के साथ शुरू हुआ बाबा रामदेव का मेला

रुनीजा रा राजा

जोधपुर.भाद्रपद के पहले शुक्लपक्ष की द्वितीया पर रविवार को मसूरिया स्थित बाबा रामदेव मंदिर में ‘बाबे री बीज’ का मेला अलसुबह पांच बजे 51 दीपक से महाआरती के साथ प्रारंभ हुआ। मसूरिया स्थित बाबा रामदेव के गुरु बालीनाथ के समाधिस्थल पर दर्शन के लिए बड़ी संख्या में श्रद्धालु उमड़े। अलसुबह महाआरती के साथ ही बाबा के दर्शन करने वालों का तांता लग गया। जातरुओं की बड़ी तादाद के कारण सुबह नौ बजे बाद तो बाबा के दर्शन करने वालों की लंबी कतारें लग गईं। दिन भर यही आलम रहा।

शाम ढलने के बाद बाबा के मंदिर में श्रद्धालुओं की भारी भीड़ उमड़ी। इस दौरान पुलिस के साथ ही पीपा क्षत्रिय समस्त न्याति सभा ट्रस्ट के सदस्यों और स्वयंसेवी संगठनों के कार्यकर्ता ने व्यवस्थाएं संभाल रखी थी। राईकाबाग स्थित युगल जोड़ी श्री बाबा रामदेव मंदिर में रविवार को सैनाचार्य स्वामी अचलानंद गिरि महाराज के सान्निध्य में अनेक धार्मिक अनुष्ठान हुए।

हेलो म्हारो साम्हलो नी रुनीजा रा राजा

गूंजते रहे रामसा पीर के जयकारे 

अधिक मास के कारण इस बार दो भादवा होने के बावजूद रविवार को पहले भादवे की बीज पर जातरुओं की संख्या खासी है। रामसा पीर की जयकारे लगाते श्रद्धालु पदयात्रा करते, साइकिल व अन्य वाहनों के जरिए यहां पहुंच कर बाबा की अरदास करते नजर आ रहे हैं। शहरवासियों ने भी उनके स्वागत में पलक पांवड़े बिछा रखे हैं।

मसूरिया मंदिर से बाहरवीं रोड चौराहे तक टैंट लगा तक जातरुओं को खाने पीने की वस्तुएं मुहैया करवाई जा रही हैं। मेले में आने वाले श्रद्धालुओं को किसी तरह की परेशानी नहीं हो, इसके लिए मंदिर ट्रस्ट की ओर से माकूल व्यवस्थाएं की जा रही हैं। इसके तहत सीढ़ियों पर स्थाई बैरिकेड्स लगाए गए हैं। रविवार को मेले में ग्रामीणों के साथ शहरी क्षेत्र के लोगों की संख्या भी खासी थी।

रेलवे स्टेशन पर जातरुओं की रेलमपेल 

बाबा की बीज पर रामदेवरा जाने वाले जातरुओं के आने का सिलसिला भी जारी है। यह जातरू मसूरिया में बाबा रामदेव के गुरु बालीनाथ की समाधि के दर्शन करने के बाद रामदेवरा के लिए प्रस्थान करते हैं। इसके लिए राजस्थान के विभिन्न जिलों के साथ ही मध्यप्रदेश, गुजरात सहित अन्य राज्यों से भी श्रद्धालु यहां पहुंच रहे हैं। रेलवे स्टेशन के भीतर व बाहर जातरुओं की भारी भीड़ से रेलमपेल की स्थिति बनी हुई है। बाबा के मेले को देखते हुए चलाई गई स्पेशल ट्रेनें व बसों में भी जातरुओं की अच्छी खासी भीड़ दिखाई दे रही है।(भास्कर की रिपोर्ट)

Related Articles:

जिस मंदिर में पाकिस्तान के छक्के छूट गए : तनोट माता

चूहों वाली माता : करणी माता, देशनोक

मेहंदीपुर वाले बालाजी

गौरक्षक वीर तेजा जी

कलयुग में शक्ति का अवतार माता जीण भवानी

ऐसा मंदिर, जहाँ बाइक पूजी जाती है

जहाँ दीपक से काजल नहीं,केसर बनती है : आई माता

जन जन की आस्था का केन्द्र : सालासर बालाजी

श्री नाकोडा पार्श्वनाथ तीर्थ

“हारे के सहारे: खाटू श्याम जी” (hindi)

Khatu Shyamji : Jay Shree Shyam (English)

So, what do you think ?