SatsangLive

The Spiritual Touch

मेहंदीपुर वाले बालाजी

0

मेहंदीपुर वाले बालाजी

राजस्थान के मेहंदीपुर वाले बालाजी देश ही नहीं दुनियाभर में लोगों के लिए श्रद्धा और आस्था के केंद्र हैं। कहते हैं कि यह ऐसा स्थान है जहां नास्तिक से नास्तिक व्यक्ति भी आस्तिक बन जाता है, आज के वैज्ञानिक युग के वैज्ञानिक भी यहां नतमस्तक हुए बगैर नहीं रहते है। चमत्कारों से भरा हुआ यह स्थान लोगों को सहसा ही अपनी ओर खींच लेता है।
हर दिन बालाजी महाराज के दर्शन करने के लिए भक्तों की लम्बी कतार देखी जा सकती है , यह मंदिर अरावली पहाड़ियों के बीच बना हुआ है, इसे घाटा मेहंदीपुर के नाम से भी जाना जाता है। इस मंदिर का इतिहास लगभग हज़ार साल पुराना है।श्री बालाजी महाराज(हनुमान जी), प्रेतराज सरकार और श्री कोतवाल (भैरव) जी महाराज तीनों ही देवों की इस स्थान पर प्रधानता है जो लगभग हज़ार साल पहले यहां प्रकट हुए थे।
कुछ ऐसा है बालाजी का इतिहास:
एक बार यहां महंतजी के पूर्वजों को स्वप्न में एक अद्भुत शक्ति दिखाई दी। वे स्वप्नावस्था में उस ओर चल दिए और उन्होंने देखा उनके सामने लाखों दीप सहसा जल उठे। वे इस दृश्य देख अचंभित हो उठे, फिर स्वप्न में उन्हें उसी स्थान पर तीन मूर्तियां के साथ विशाल वैभव दिखाई दिया, साथ ही एक फ़ौज भी दिखाई दी, फ़ौज के सरदार ने मूर्तियों को प्रणाम किया। उसके साथ ही उन्हें एक आवाज़ सुनाई दी, बालाजी महाराज ने स्वयं प्रकट होकर कहा ‘उठो भक्त मेरी सेवाओं का भार ग्रहण करो मैं अपनी लीलाओं का विस्तार करूंगा’ ।
सुबह महंतजी ने यह घटना क्षेत्र के लोगों को सुनाई और उन्ही के साथ मिलकर उन्होंने बालाजी महाराज की एक छोटी सी तिवाड़ी उस स्थान पर बना दी। काफी समय बाद एक शासक ने श्री बालाजी की मूर्ति निकालने के लिए खुदाई करवाई लेकिन वह सफल ना हो सका, उसके हाथ सिर्फ मूर्ति का ऊपरी भाग ही आया मूर्ति के पैर कहां तक गए हैं, यह काफी खुदाई के बाद भी वह ना जान सका। कहा जाता है कि तब से किसी को भी श्री बालाजी के चरणों के दर्शन आज तक नहीं हुए।
इस प्रकार की बालाजी महाराज के इस मंदिर की और भी कई चमत्कारिक कथाएं हैं।
कैसे पहुंचे: मेहंदीपुर बालाजी तीर्थ जयपुर- आगरा राष्ट्रीय राजमार्ग से चार किमी अंदर स्थित है. जयपुर, भरतपुर, दौसा आगरा से प्रत्येक आधे घंटे में बस उपलब्ध है. राजस्थान राज्य के दो जिलों सवाईमाधोपुर व दौसा में विभक्त घाटा मेहंदीपुर स्थान बड़ी लाइन बांदी कुई स्टेशन से जो कि दिल्ली, जयपुर, अजमेर अहमदाबाद लाइन पर 24मील की दूरी पर स्थित है।
कहाँ ठहरें: बालाजी में हर वर्ग के रुकने के लिए बेहतरीन व्यवस्था है. धर्मशालाओं, होटलों की कोई कमी नहीं. यदि आप ज्यादा देर ना रुकना चाहे तो भी कई धर्मशालाएं केवल नहाने और फ्रेश होने की सुविधाएं उपलब्ध करवाती है.

 

Related Articles:

जिस मंदिर में पाकिस्तान के छक्के छूट गए : तनोट माता

चूहों वाली माता : करणी माता, देशनोक

हेलो म्हारो साम्हलो नी रुनीजा रा राजा

गौरक्षक वीर तेजा जी

कलयुग में शक्ति का अवतार माता जीण भवानी

ऐसा मंदिर, जहाँ बाइक पूजी जाती है

जहाँ दीपक से काजल नहीं,केसर बनती है : आई माता

जन जन की आस्था का केन्द्र : सालासर बालाजी

श्री नाकोडा पार्श्वनाथ तीर्थ

“हारे के सहारे: खाटू श्याम जी” (hindi)

Khatu Shyamji : Jay Shree Shyam (English)

(photos: google image)

 

So, what do you think ?