SatsangLive

The Spiritual Touch

jhulelal

Story of Jhulelal Sai

Also Known as Lal Sai, Uderolal, Varun Dev, Doolhalal & Zinda Pir Faith has established Jhulelal as the Asht Dev (community God) of sindhis. His Birthday “Cheti Chand” second tithi of Chaitra auspicious for sindhis and is celebrated the world over with traditional pomp and gaiety. But how, when and where in history was the [...]

1
devi

देवी कवच / चण्डी कवच

चैत्र नवरात्र विशेष देवी कवच Navratri Pooja, Customs, Aarti & All Navratri Pooja Vidhi 51 पीठों में महापीठ : कामाख्या शक्तिपीठ मराठा शक्ति पीठ: माँ तुलजा भवानी जहाँ दीपक से काजल नहीं,केसर बनती है : आई माता जिस मंदिर में पाकिस्तान के छक्के छूट गए : तनोट माता चूहों वाली माता : करणी माता, देशनोक [...]

0
ganesh ji

गणेशजी दूर करते हैं वास्तु दोष

सुन्दर व अच्छा घर बनाना या उसमें रहना हर व्यक्ति की इच्छा होती है। लेकिन थोड़ा सा वास्तु दोष आपको काफी कष्ट दे सकता है। लेकिन वास्तु दोष निवारण के महंगे उपायों को अपनाने से पहले विघ्नहर्ता गजानन के आगे मस्तक जरूर टेक लें। क्योंकि आपके कई वास्तु दोषों का ईलाज गणपति पूजा से ही [...]

1
navkar mantra

नवकार मंत्र से मिटते हैं सारे कष्ट

णमोकार महामंत्र एक लोकोत्तर मंत्र है। इस मंत्र को जैन धर्म का परम पवित्र और अनादि मूल मंत्र माना जाता है। इसमें किसी व्यक्ति का नहीं, किंतु संपूर्ण रूप से विकसित और विकासमान विशुद्ध आत्मस्वरूप का ही दर्शन, स्मरण, चिंतन, ध्यान एवं अनुभव किया जाता है। इसलिए यह अनादि और अक्षयस्वरूपी मंत्र है। लौकिक मंत्र [...]

0
osho

“अद्भुत है ओशो के विचार “

रजनीश मुझे काफ़ी पहले से अच्छे लगते रहे हैं. उनके गुरुआई का मैं क़ायल रहा हूँ। नाक सीधे पकड़नी हो या घुमा के.. वो दोनों तरह से पकड़ने की महिमा गा कर आप को चकाचौंध कर सकने की प्रतिभा रखने वाले गुरु थे। कबीर को कबीर बन कर और नानक को नानक बनकर समझा सकने [...]

1
shabri

शबरी चरित्र : देवकी नंदन ठाकुर जी

प्रभु श्री राम के वनवास के दौरान मानस में शबरी चरित्र का उल्लेख है.  शबरी एक भील परिवार से थी । उसका स्थान प्रमुख रामभक्तों में था । वनवास के समय राम-लक्ष्मण ने शबरी का आतिथ्य स्वीकार किया और उसके द्वारा प्रेम पूर्वक दिए हुए जूठे बेर खाए । राम ने उसके सद्व्यवहार और निष्ठा [...]

0
हिंदूओं की ताकत है ध्यान और गीता का ज्ञान

हिंदूओं की ताकत है ध्यान और गीता का ज्ञान

मैं देश में चल रहे माहौल को जब देखता हूँ जिसमें हिदू धर्म के प्रति लोगों के मन में तमाम विचार आते हैं पर उनका कोई निराकरण करने वाला कोई नहीं है। धर्म के नाम पर भ्रम और भक्ती के नाम पर अंधविश्वास को जिस तरह बेचा जा रहा है, वह चिंता का विषय है [...]

0
NakshatraWheel

ग्रह और व्यवसाय

ग्रह और भाव नौकरी व्यवसाय और व्यक्ति के द्वारा जीवन मे किये जाने वाले जीविकोपार्जन के लिये प्रयासों का लेखा जोखा बतलाते है। ग्रहों के प्रभाव से अच्छे अच्छे व्यवसायी पलक झपकते धराशायी हो जाते और ग्रहों के ही प्रभाव से गरीब से गरीब कहां से कहां पहुंच जाते है। ग्रहों के बारे में ज्ञान [...]

0
Khatu Shyamji

“हारे के सहारे: खाटू श्याम जी”

राजस्थान के सीकर जिले में स्थित है भगवान खाटू श्याम जी का मुख्य मंदिर. खाटू श्याम जी को बर्बरीक के रूप जाना जाता है. बर्बरीक को खाटू श्याम नाम भगवान श्री कृष्ण द्वारा प्राप्त हुआ था. और उन्हीं के वरदान स्वरूप खाटू श्याम जी इस रूप में सभी की भक्ति का केन्द्र रहे हैं. भीम [...]

0
durga

श्री अम्बे जी की आरती

जय अम्बे गौरी, मैया जय श्यामा गौरी । तुमको निशदिन ध्यावत, हरि ब्रह्मा शिवरी ॥ जय अम्बे गौरी ॥ मांग सिंदूर विराजत, टीको मृगमद को । उज्जवल से दो‌उ नैना, चन्द्रबदन नीको ॥ जय अम्बे गौरी ॥ कनक समान कलेवर, रक्ताम्बर राजै । रक्त पुष्प गलमाला, कण्ठन पर साजै ॥ जय अम्बे गौरी ॥ केहरि [...]

1
Durga-Maa

दुर्गाष्टोत्तर शतनाम स्त्रोत्रं | Durga Shrottarshatnamstrotam

शतनाम प्रवक्ष्यामि शुणुष्व कमलानने । यस्य प्रसादमात्रेण दुर्गा प्रीता भवेत् सती ।।1।। ॐ सती साध्वी भवप्रीता भवानी भवमोचनी । आर्या दुर्गा जयाआद्या त्रिनेत्रा शूलधारिणी ।।2।। पिनाकधारिणी चित्रा चन्द्रघण्टा महातपाः । मनो बुद्धिरहंकारा चित्तरुपा चिता चितिः ।।3।। सर्वमन्त्रमयी सत्ता सत्यानन्दस्वरूपिणी । अनन्ता भाविनी भाव्या भव्याअभव्या सदागतिः ।।4।। शाम्भवी देवमाता च चिन्ता रत्नप्रिया सदा । सर्वविद्या दक्षकन्या [...]

0
durga-puja

दुर्गा चालीसा

नमो नमो दुर्गे सुख करनी । नमो नमो अम्बे दुःख हरनी ।। निराकार है ज्योति तुम्हारी । तिहूं लोक फैली उजियारी ।। शशि ललाट मुख महा विशाला । नेत्र लाल भृकुटी विकराला ।। रुप मातु को अधिक सुहावे । दरश करत जन अति सुख पावे ।। तुम संसार शक्ति लय कीना । पालन हेतु अन्न [...]

0
vipassana

Vipassana Meditation

Vipassana, which means to see things as they really are, is one of India’s most ancient techniques of meditation. It was rediscovered by Gotama Buddha more than 2500 years ago and was taught by him as a universal remedy for universal ills, i.e., an Art Of Living. This non-sectarian technique aims for the total eradication [...]

1
Acharya_Mahashraman

संवाद भगवान् से : आचार्य श्री महाश्रमण

धर्मकथा का पहला लाभ यह है कि कर्मों की निर्जरा होती है | धर्मकथा करने से पाप कटते हैं | दूसरों को लाभ मिले या न मिले, किन्तु स्वयं को लाभ मिल जाएगा | सामायिक से जीव क्या प्राप्त करता है ? सामयिक में सावद्द योग से पच्क्खान किया जाता है | सावद्द = स+ [...]

0
aura

What is the Aura ?

What is the Aura ? Everything in the Universe seems to be just a vibration. Every atom, every part of an atom, every electron, every elementary “particle”, even our thoughts and consciousness are just vibrations. Hence, we may define the Aura as a electro-photonic vibration response of an object to some external excitation (such as [...]

0
aura

Aura

There is nothing “paranormal” in the Universe, except our limited understanding of Nature. What we think we “know” on Earth now is just a tiny drop in the Ocean of Knowledge. In the distant past, people admired things they could not explain and called them “miracles”. Long ago, people were able to see Auras. Advanced [...]

0
meditation

ध्यान के लाभ: श्री श्री रविशंकर

ध्यान सार्वभौमिक है. आधुनिक जीवन शैली में क्रोध, घृणा, भय और अन्य नकारात्मक भावनाओं का मन में घर करना स्वाभाविक है. ध्यान हमारे मन की नकारात्मक उरझा को खत्म करता है. हमें स्वयं के भीतर झाँकने हेतु तत्पर करता है. एक व्यक्ति ध्यान के माध्यम से  भावनाओं पर काबू कर सकता है.पाने के लिए…  एक [...]

0
Surya_Namaskar

सूर्य नमस्कार

हमारी दैनिक दिनचर्या में व्यायाम बेहद आवश्यक है | व्यायाम हमारे तन और मन दोनों को स्फूर्ती प्रदान करता है | ऐसा ही एक पूर्ण व्यायाम है सूर्य नमस्कार। योग हमारी संस्कृति की महत्वपूर्ण धरोहर है और एक प्राचीन विद्या भी। योग के माध्यम से तन, मन और आत्मा की शक्तियों का समन्वय कर विशेष [...]

0
gopal 1 banner

अभिनन्दन

सत्संग लाइव पर आपश्री का हार्दिक अभिनन्दन .. दो नन्हे क़दमों ने आज चलना सिखा है.. डगमग डगमग आगे बढ़ चले है.. सामने असीम विस्तार लिए आकाश है.. पर नन्हे कदमो को अपने हौसलों पर पूरा भरोसा है.. संतों-गुरुजनों का आशीष तो साथ है ही.. और फिर आपका साथ भी तो है.. है न.. !! [...]

6
hanuman

आरती: हनुमान जी

आरती किजे हनुमान लला की | दुष्ट दलन रघुनाथ कला की ॥ जाके बल से गिरवर काँपे | रोग दोष जाके निकट ना झाँके ॥ अंजनी पुत्र महा बलदाई | संतन के प्रभु सदा सहाई ॥ दे वीरा रघुनाथ पठाये | लंका जाये सिया सुधी लाये ॥ लंका सी कोट संमुद्र सी खाई | जात [...]

0
ganesh ji

आरती: गणेश जी

जय गणेश जय गणेश जय गणेश देवा माता जाकी पार्वती पिता महादेवा पान चढ़े फल चढ़े और चढ़े मेवा लड्डुअन का भोग लगे सन्त करें सेवा एकदन्त दयावन्त चारभुजाधारी , मस्तक सिंदूर सोहे मूसे की सवारी जय गणेश जय गणेश जय गणेश देवा अंधन को आँख देत कोढ़िन को काया , बाँझन को पुत्र देत [...]

0
devki nandan thakur ji

बधाई संदेश: देवकी नंदन ठाकुर जी

दिन ढलता है, रात आती है, और फिर सुबह! कैलेंडर के मास विशेष की एक तारीख और आगे सरक जाती है, फिर अमावस की गिनती के बाद मास पूरा हो जाता है, कैलेंडर का पृष्ठ – सुंदर चित्र हुआ तो पीछे कर दिया जाता है, अनाकर्षक हुआ तो फाड़ दिया जाता है और एक दिन [...]

0
shri shri ravishankar

बधाई संदेश:श्री श्री रविशंकर

ओम. जीवन का लक्ष्य और सार्थकता इस बात में है कि आशा के साथ भविष्य की ओर देखा जाये और आगे बढ़ा जाये. नव संवत्सर 2069 में हमें एक ऐसे उजाले की उम्मीद रखनी चाहिए, जो देश की समस्याओं के अँधेरों को दूर भगा दे. देश के सामने खड़ी समस्याओं और चुनौतियों की सूची काफी [...]

0
हरिद्वार में चिन्मयानन्द बापू की कथा

बधाई संदेश: चिन्मयानन्द बापू

लोकाभिरामं रणरंगधीरं राजीवनेत्रं रघुवंशनाथम I कारुण्यरूपं करुणाकरम तं श्रीरामचन्द्रंशरणं प्रपध्ये II मेरे प्रत्येक दिवस की शुरुआत इन्ही शब्दों के साथ होती है. प्रभु श्री राम की करुणा सभी पर बरसे, यही कामना नित्य करता हूँ. जब प्रभु श्री राम का प्रेम हमारे ह्रदय में विराजित होगा, तो स्वतः ही सारे कार्य शुभ होते चले जायेंगे. [...]

0
Ramesh Bhai Ojha

बधाई संदेश: भाई श्री

  अनेकानेक पूज्य संतो द्वारा जिस कानजी का बार बार गुणगान होता है, अब उसके दर्शन सत्संग लाइव के माध्यम से इंटरनेट पर भी होंगे , यह अतीव प्रसन्नता का विषय है. सत्संग लाइव के संस्थापकों को मेरा खूबज- खूबज आशीर्वाद. भाई श्री रमेश भाई ओझा

1