SatsangLive

The Spiritual Touch

जहाँ दीपक से काजल नहीं,केसर बनती है : आई माता

आई माता

जोधपुर के बिलाडा में नवदुर्गा अवतार श्री आई माता जी का मंदिर हैं। यह पश्चिमी राजस्थान एक का सुप्रसिद्ध मंदिर है जहाँ पूरे भारत से लोग दर्शनों के लिए आते हैं। बिलाड़ा स्थित यही वो मंदिर है जहाँ विश्व का अनोखा एवं अद्वितीय चमत्कार “अखंड केसर ज्योत” है। माता सिरवी समाज की आराध्य देवी है. वैसे तो इस मंदिर का एक-एक भाग दर्शनीय है, फिर भी समझने की दृष्टि से विवरण प्रस्तुत है-
अखंड केसर ज्योत- यह “अखंड केसर ज्योत” पिछले 500 से भी अधिक वर्षों से लगातार जल रही है और इसकी लौ से काजल के स्थान पर केसर प्रकट होता है जो कि मंदिर में माताजी की उपस्थिति का अकाट्य प्रमाण है।
आई माता जी की झोपड़ी- मंदिर परिसर के प्रथम तल पर आई माताजी की झोपड़ी को संरक्षित किया गया है। यह वही झोपड़ी है जहाँ आई माताजी निवास करते थे।
चित्र प्रदर्शनी- मंदिर के एक भाग में आई माताजी के संपूर्ण जीवन चरित्र को दर्शाने वाली भव्य प्रदर्शनी है। यहाँ आई माताजी के जीवन वृत्त एवं विभिन्न घटनाओं को अनेक चित्रों के माध्यम से समझाया गया हैं। प्रदर्शनी के अंतिम छोर पर परम भक्त दीवान रोहितदास की धूणी है जहाँ वे तपस्या करते थे।
संग्रहालय(म्यूजियम)- मंदिर परिसर के एक भाग में विशाल एवं भव्य संग्रहालय है। यहाँ सैंकडों साल पुरानी अनेकों अनेक वस्तुएं, बर्तन, वाद्य यन्त्र, पुराने दस्तावेज़, फर्नीचर , धातु की मूर्तियाँ, कलाकृतियाँ, पुरानी तकनीकी वस्तुएं आदि संरक्षित हैं। इसी म्यूजियम में अनेक प्रकार के हथियार, जैसे तलवारें, कटार, भाले, ढाल आदि भी संरक्षित किये गए हैं। वर्तमान दीवान श्री माधोसिंह जी के द्वारा करवाए गए इस संरक्षण को देखकर निश्चित रूप से आप कह उठेंगे- आश्चर्यजनक! अदभुत!! अतुल्य!!!
रावटी झरोखा- यह झरोखा मंदिर परिसर के द्वार के पास ऊपर बना हुआ है। यह पत्थर पर नक्काशी का सुन्दर उदाहरण है। इस झरोखे के अन्दर की तरफ कांच की अत्यंत सुन्दर कारीगरी की गयी है। बेजोड़ स्थापत्य कला युक्त यह झरोखा बरबस ही सबका ध्यान अपनी तरफ आकर्षित करता है।
वाड़ी महल-यह महल दीवान साहब का निवास स्थान है। इसका निर्माण लगभग 300 वर्षों पहले हुआ था। इस महल की बनावट भी बेजोड़ है। \
कैसे पहुचे:
बिलाडा क़स्बा जोधपुर से ४५ किमी दूर जयपुर-जोधपुर राष्ट्रीय राजमार्ग पर स्थित है. जयपुर, अजमेर, जोधपुर से यहाँ आसानी से पहुंचा जा सकता है. सिरवी समाज की प्रमुख आराध्य देवी है.

 

Related Articles:

जिस मंदिर में पाकिस्तान के छक्के छूट गए : तनोट माता

चूहों वाली माता : करणी माता, देशनोक

हेलो म्हारो साम्हलो नी रुनीजा रा राजा

मेहंदीपुर वाले बालाजी

गौरक्षक वीर तेजा जी

कलयुग में शक्ति का अवतार माता जीण भवानी

ऐसा मंदिर, जहाँ बाइक पूजी जाती है

जन जन की आस्था का केन्द्र : सालासर बालाजी

श्री नाकोडा पार्श्वनाथ तीर्थ

“हारे के सहारे: खाटू श्याम जी” (hindi)

Khatu Shyamji : Jay Shree Shyam (English)

sirvi samaj, aai mata, bilada-jodhpur

So, what do you think ?