SatsangLive

The Spiritual Touch

श्रीजी प्रभु की हवेली में पुष्प वितान का मनोरथ

0
 shri ji
 पुरुषोत्तम मास के तहत श्रीजी प्रभु की हवेली में मंगलवार को पुष्प वितान का दिव्य मनोरथ हुआ।

श्रीजी प्रभु को प्रात: शृंगार झांकी में अनूठा शृंगार धराया गया। सायं भोग-आरती की झांकी में श्रीलालन प्यारे श्रीजी प्रभु के घर पधारे। हवेली में स्थित कमल चौक में सजावट की गई। श्रीलालन प्यारे को शृंगार धराकर मण्डली में विराजित किया गया। कमल चौक में लालन प्रभु के सम्मुख काष्ठ व चांदी से बने खेल-खिलौने, गोप-गोपी आदि पधराए गए। विभिन्न प्रकार के पुष्पों से सघन कुंज आच्छादित कर पुष्प वितान का भाव रचा गया। मुखिया बावा ने श्रीलालन प्रभु की आरती उतारी वही कीर्तनकारों ने विविध राग में पदों का गान किया।

दर्शन में उमड़े भक्त 

मंगलवार को पुष्प वितान मनोरथ की झांकी में भक्त उमड़ पड़े। भारी भीड़ के कारण भक्तों को दर्शन खेवा पद्धति से करवाए गए। भक्तों ने भी गिरिराज धरण की जय आज के आनन्द की जय के जयकारे लगाकर माहौल को भक्तिमय बना दिया। 

इस समय नाथद्वारा में जहाँ देखो भक्त ही भक्त नज़र आ रहे है. मोरारी बापू की कठे के बाद भी कई गुजराती और मराठी भक्त अभी भी विभिन्न होटलों और धर्मशालाओं में रुके है. (भास्कर)

So, what do you think ?